Third Party Insurance Hindi वाहन बीमा के प्रकार क्या है?

Automobile, Car, Two Wheeler, Bike Third Party Insurance meaning/details in Hindi.थर्ड पार्टी बीमा क्या है?वाहन बीमा के प्रकार?

Third Party Insurance Hindi- आज के समय वाहन बीमा बहुत जरुरी है, जब भी हम बीमा का नाम सुनते है तब उल्टा ही सोचते है। इसका फायदा बहुत है आपके भविष्य में होने वाले नुकसान की के खर्चे से बचाता है। आजकल जब कोई बाइक या कार खरीदे उसका बीमा /इन्शुरन्स जरूर करवाए। अगर आप ऐसा नहीं करवाते है तो गैर कानूनी माना जाता है।

आपको पता ही होगा जब भी हम उसके साथ कोई भी वेहिकल खरीदते है सरकार ने उसके साथ बीमा / इन्शुरन्स अनिवार्य कर दिया गया है। आगे हम थर्ड इन्शुरन्स पॉलिसी क्या है?इसको विस्तार से हिंदी में जानेंगे। बहुत से लोगो ने इसके बारे में सुना होता है लेकिन ज्यादा जानकारी नहीं होती।

बीमा क्यों जरुरी है? भारत में आबादी बहुत है। सड़क पर लोग ही लोग है हर किसी को अपनी होड़ लगी हुई है हर कोई जल्दी में है। जितने लोग बढ़ेंगे उतने मोटर व्हीकल भी बढ़ेंगे। ऐसे में सड़क पर जल्दी के चक्कर में लोगो का वाहन से टकराव होआ जाता है। कई बार भयानक हादसा हो जाता है इससे बहुत खर्चा हो जाता है। ऐसे समय में बीमा कंपनी ही इस खर्चे की भरपाई करती है। वाहन की टूट, फुट, जान, माल की सुरक्षा के बीमा बहुत ही जरुरी है।

इसे भी पढ़े

वाहन बीमा के प्रकार क्या होते है?

हमारे भारत में आमतौर पर वाहन बीमा दो प्रकार के होते है।

  • फुल पार्टी बीमा (Full Party Insurance Policy)
  • थर्ड पार्टी बीमा (Third Party Insurance Hindi Policy)

फुल व फर्स्ट पार्टी बीमा क्या होता है?(What is Full/first Party Insurance Policy)

फर्स्ट पार्टी वाहन बीमा पॉलिसी में होने वाले वाहन दुर्घटना से सभी प्रकार के नुक्सान की भरपाई बीमा कंपनी ही करती है। इस प्रकार के बीमा पॉलिसी में जिसने बीमा करवाया वाहन के दुर्घटना में ड्राइवर, वाहन में बैठे अन्य लोग और जिससे दुर्घटना हुआ दूसरे वाहन में बैठे लोग, इसके साथ किसी भी तरह की कार, बाइक की टूट फुट सभी को फुल पार्टी इन्शुरन्स पॉलिसी में कवर किया जाता है इन सभी की किसी भी तरह की नुकसान की भरपाई इन्शुरन्स कंपनी देती है।

इसमें अगर गाड़ी चोरी हो जाती है तो मार्किट में जितनी वैल्यू होगी उतने रुपये दे दिए जाते है। इसका बड़ा फायदा यही है बीमा करवाने वाला का अगर दूसरे से दुर्घटना होआ जाते खुद की और दूसरे की गाड़ी खराब हो जाये तो सारा खर्चा बीमा कंपनी देती है।

थर्ड पार्टी बीमा क्या है? (What is Third Party Insurance Hindi)

थर्ड पार्टी बीमा पॉलिसी यह कार, बाइक सभी तरह के वाहन के लिए होता है सरकार ने इस पॉलिसी को सभी वाहनों के लिए जरुरी कर दिया है। इस पॉलिसी के तहत इन्शुरन्स आप और बीमा कंपनी के बीच तीसरे व्यक्ति के लिए बीमा होता है। जब किसी वाहन से किसी व्यक्ति की मौत या वाहन की टूट फुट होती है। तब इसमें बीमा कंपनी तीसरे व्यक्ति को इसका खर्चा देती है।

इस पॉलिसी के अंतर्गत बीमा धारक को फायदा नहीं होता बल्कि तीसरे व्यक्ति को फायदा होता है।

इसे जरूर पढ़े

थर्ड पार्टी इन्शुरन्स के फायदे (Advantage /benifits of Third party Insurance Policy Hindi)

  • इसका सबसे बड़ा फ़ायदा यही है की बीमा करवाने वाले का खर्चा नहीं लगता।
  • सामने वाले की गाड़ी की टूट फुट का सारा खर्चा बीमा कंपनी देती है।
  • अगर दुर्घटना में सामने वाले की मौत हो जाये जाये तो इसका हर्जाना भी Third Party Insurance Hindi पॉलिसी के तहत बीमा कंपनी ही देती है।
  • थर्ड पार्टी इन्शुरन्स पालिसी करवाने से बीमा धारक को खर्चे को लेकर कोई परेशानी नहीं होती।
  • शारीरक श्रति में थर्ड पर्सन की हॉस्पिटल का सारा खर्चा और गाड़ी के नुकसान की Third Party Insurance Hindi तहत ही किया जाता है।

Conclusion

इस आर्टिकल में हमने Third Party Insurance Hindi और वाहन बीमा के प्रकार को विस्तार से जाना है। उम्मीद करता हूँ आपको इस आर्टिकल की जानकारी अच्छी लगी होगी। इस पोस्ट को अपने दोस्तों व सोशल प्लेटफार्म पर शेयर करना ना भूले।

Hi, I'm Virender Gupta Founder & CEO of Virenjitechnical. A blog that provides information blogging, Make Money Online, Latest tech updates.

Leave a Reply